भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब के बरदिया कोसी माय अमरपुर पहुंचल / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सब के बरदिया कोसी माय अमरपुर पहुंचल
हमरो बरदिया उसर में लोटाय ।
सब कोय बनीजल कोसीमाय पाकल बीड़ा पान,
हमहूँ बनिजवै कोसीमाय लंग अड़ाँची ।
जब तोरा आहे बेपरिया पार देवों उतारि
वेपरिया किय देव दान ।
घाटे वारे चढ़ेबो कोसीमाय हसाना बीड़ा पान
घरे घरे छौकी ज्योनार ।
घरही जे जेबे सहुआ, सहुनिया बुधि रचबे
बिसरि जेबे कोसिका नाम ।
जीबो मोरा जेतै कोसीमाय परानो किछु गे बचतै
तैयो ने विसिरवौ तोर नाम ।।