भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब दिन नए ना रहे, पुरान हो जाला / अंजन जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब दिन नए ना रहे, पुरान हो जाला
नीमनो चीज कबो हेवान हो जाला ।
समय से बढ़ि के कुछऊ ना होला
मुगाज़ ना बोलेला तबो बिहान हो जाला ।