भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब सखि चलो जमुना तट पे / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सब सखि चलो जमुना तट पे
जहां श्याम बजा रहे बांसुरिया।
जमुना तट धेनु चराय रहें,
सिर ओढ़े कारी कामरिया। सब सखि...
जमुना तट रहस रचाये रहे,
संग नाचे राधा सांवरिया। सब सखि...
जमुना तट ग्वाल खेल रहे,
जमुना में कूदे सांवरिया। सब सखि...
जब काले नाग फुंकार दियो,
तब रंग बदल गयो सांवरिया। सब सखि...
जब श्याम ने नाग को नाथ लियो
तब प्रेम की बाजी बांसुरिया। सब सखि...