भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभी का है! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी अपनी ज्योति लिये सब तारांे-से चमको,
मुक्ति-पंथ पर रोक सकेगा कौन काहे हमको?
आकाश-सभी का है!

सौ योजन से सपनों की रानी को विधुवदनी-
उतराओ न, मन की तरल तरंगों पर अपनी;
विश्वास-सभी का है!

अपनी-अपनी आग जगाओ, मधु-गुंजार करो,
अधरों को स्वर से सुलगा, गीतों से विश्व भरो;
मधुमास-सभी का है!

नेह-निमंत्रण दे नयनों से, खींचो और खिंचो,
मन का मीत चुनो, जिससे जीवन कुसुमोत्वस हो;
भुज-पाश-सभी का है!

सूरजमुखी कमल-सी मन की पंखुड़ियाँ फैला-
हँस लो चार घड़ी, जीवन का लगा मधुर मेला;
उल्लास-सभी का है!