भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभी के हाथ जले हैं / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम सौ बार कहो—
मत छूओ आग, हाथ जलेगा
मेरा मन
आग छूने को
हजार बार करेगा!

लाल, सिंदूरी, रेशमी आग
कितना खींचती है हाथ—
मेरी मुद्ठी में नहीं आ जाएगी क्या
सब एक साथ?

क्या तुम्हारा भी हाथ कभी जाला था, माँ?
क्या तुम्हारा भी हाथ कभी
आग से छुआ था?
क्या तुम्हारा भी ऐसा ही मन हुआ था?
ओ पिता?
या तुम ने अपने बड़ों की बात मान ली?
आज तक क्या
वह बात उसी तरह मान रहे हो?

तुम झूठ नहीं बोलतीं, माँ!
सच ही कहते हो, ओ पिता!
आग के आसपास ही हम पले हैं और
और भी सब लोग जो मुझ से बड़े हैं—
सभी के हाथ जले हैं!