भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभुको सभिकी महज़ इत्तिफ़ाक़ सां / मोतीलाल जोतवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हू मूंखे स्टेशन ते वठण आयो हो
ऐं टैक्सीअ में
शाही सड़कुनि तां लंघन्दे
शहर में पाण सां वाक़फ़ियत
कराईन्दो हलियो हो-
ही टाऊन हाल आहे,
उन जे हाऊस टैक्स डिपार्टमेन्ट में
मुंहिंजो नालो आहे
हीअ लाईफ इंशोरंस कारपोरेशन जी
वॾी इमारत आहे,
मां वटिनि साल ब साल
पैसा भरीन्दो आहियां
साहित्य अकादमीअ जो मर्कज़ी दफ़्तरु
सामुहूं रवीन्द्र भवन में आहे
मुंहिंजा के क़िताब
उतां बि शायॅ थिया आहिनि;
ही आल इंडिया रेडियो देहली आहे
सभ खां पहिरीं मूं ई उतां
सिंधीअ में ख़बरूं पढ़ियूं हुयूं...

सुरखु़रू थी चयाईं
मां पाट नगर में आहियां
एतिरे में हिकु वॾो धकाउ...
ऐं हू न रहियो हो,
अला! इझो हाणे त हू मूंसां गडु हो,
ऐं एतिरे में वरी हू कोन हो।
हिते मां महज़ इतित्तफ़ाक़ सां होसि
ऐं हुते हू इत्तिफा़क़ सां ई कोन हो।
हाणे हू पियो हो,
विच सडत्रक ते हिक बेजान सर्द लाश,
टी.एछ, एल. आई.सी.;
एस.ए. ऐं ए.आई.आर.
जे दफ़्तरनि में
हिकु नालो
ऐं सचु पचु त नालो बि न,
लंबियुनि लंबियुनि फे़हरस्तुनि ते महज़ हिकु अदद!