भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभ जी विख विख खे हिसाब थो सॾीं / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सभ जी विख विख खे हिसाब थो सॾीं।
मिड़िनी माण्हुनि खे किताबी थो सॾीं!!

आस जो चंडु ख़याली थो सॾीं।
ज़िंदगी रात उमासी थो सॾीं॥

खाली किशकोलु ॾसीं थो हीअ हयाति।
हर बशर खे तूं सवाली थो सॾीं॥

कूड़ जे हार जी जंहिं खे पक आ।
अहिड़े माण्हूअ खे किताबी थो सॾीं॥

हिते हिकु-अधु को हलाली हूंदो।
तूं त सभिनी खे हरामी थो सॾीं॥

होश में भी त को थाॿिड़जे थो।
सभिनी खे छो तूं शराबी थे सॾीं॥