भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समय और मेरा मैं / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समय एक कुल्हाड़ी है
मैं एक वृक्ष
वृक्ष को कटते देख
मेरा ‘मैं’
तेज-तेज चलने को प्रेरित हुआ।
   और मैं दौड़ने लगा हूँ।
मैं जानता हूँ
जो दौड़ता है
वह गिरता भी है
मुझे यकीन है
मेरे गिरने पर
लोग हँसेंगे
कोई मुझे उठायेगा नहीं
हँसकर चल देगा
क्योंकि उसकी आदत है
एक दिन मैं
सच में गिर गया
अपनी गली के चौरास्ते पर
मुझे किसी ने नहीं उठाया।
मैं गिरा रहा
लोग हँसते रहे
सोचता हूँ
आदमी कब तक यूँ हँसता रहेगा ?