भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुझु हाणे सियाणा थई ज़ालिम ज़मानो / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समुझु हाणे सियाणा थई ज़ालिम ज़मानो
कोई नाहे कंहिंजो रहीं छो वेॻाणो

ॿुधीं कीन थो काल जा तूं नग़ारा
वॾा वॾा वीर विया थियो हिक हिक रवानो
कोई नाहे कंहिंजो रहीं छो वेॻाणो

चुहटी छो पियो आहीं मन मायावी महाॼार में
चइनि ॾींहनि जी मिज़िमानी दुनिया अथई मुसाफ़िर ख़ानो
कोई नाहे कंहिंजो रहीं छो वेॻाणो।

हिन बे बका जहान में कोई न आहे कंहिंजो
बस यार सां दिल लाइ त थिएई महरबानो
कोई नाहे कंहिंजो रहीं छो वेॻाणो

ॿुध ॿोड़ा तूं कनु लाए छॾि ग़फ़लत गेंवारी
हिक ॾींहिं आखि़र कंदें तूं हितां चालाणो
कोई नाहे कंहिंजो रहीं छो वेॻाणो