भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुझे थो पंहिंजीअ ख़ुदीअ ते थो हले / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समुझे थो पंहिंजीअ ख़ुदीअ ते थो हले।
आदमी अॼु ”खु़द-ठॻीअ“ ते थो हले॥

आदमी हलन्दो हो रस्ते ते कॾहिं।
हाणे रस्तो आदमीअ ते थो हले!!

सारो कारोबारु ऊंदहि जो हिते।
ग़ौर सां ॾिसु, रोशनीअ ते थो हले॥

किअं पचाए हू सणिभु इख़्लाक़ जो?
शख़्सु जो रोटीअ सुकीअ ते थो हले॥

कीअं चइजे, कीअं हलन्दो पोइ हू दोस्तु।
हेल ताईं मति चङीअ ते थो हले॥

शुकुर करि सोशल क्लब्बुनि जो कमल।
केतिरनि जो घरु रमीअ ते थो हले॥