भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुद्र-7 / पंकज परिमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बूंदों को अभिमान है
कि बूंद-बूंद मिल कर समुद्र बना है
किसी नदी को जिद होती है
समुद्र पर अपना नाम थोपने की
जो तीन में न तेरह में
वे जरा-जरा से गागर चिल्ला रहे हैं
कि उन्होंने गागर में सागर भर लिया है