भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुद्र के सामने जाने पर / निशांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समुद्र के पास पहुचकर पता चला
कितना?
कितना बड़ा है आसमान!

कितना?
कितना बड़ा है समुद्र!

और
कितने?
कितने छोटे है हम
घर के एक पानी के नल से भी छोटे

सच्चाई क्या है?
किसे सच माने बैठे है हम!
पानी के लिए
चपरासी पर हुक्म चलाते हुए

समुद्र के सामने जाने पर
चपरासी के सामने
शर्म से झुक जाता है मेरा सर।