भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सरकारी खेल / सुधीर कुमार 'प्रोग्रामर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहिने ऐसन खेल खेलै छै, पकड़ी-पकड़ी जेल भरे छै?
टिकट वाला धुकूर-धुकूर पर, साहब खातिर मेल चलै छै,
चोर उचक्का प्राइवेट लेकिन, सरकारऽ के तेल जलै छै,
कहिने ऐसन खेल खेलै छै, पकड़ी-पकड़ी जेल भरै छै?

बहाली ठक्कै केरऽ धंधा वेतन लागथौन रजनी गंधा,
सो-पचास के पोस्टल-ऑडर लंकं करै गोरख धंधा
जखनी चाहे केन्सील करथोन, यहा रकम फुलै फलै छै,
कहिने ऐसन खेल खेलै छै, पकड़ी-पकड़ी जेल भरै छै?

दसे हजार मेॅ पी.टी. पास, लोभे दै छी रही उपास
बेची-खोची तकदीर केॅ जाचौं समझी जूआ आरु तास,
झूठ-मूठ के मोबाइल पर फोन करी कं रोज छलै छै,
कहिने ऐसन खेल खेलै छै, पकड़ी-पकड़ी जेल भरै छै?

कोय काम नै बदली करथौन, कमियोॅ केॅ आवी घरथौन,
घुसऽ खातिर हाय पसारै, लै-दै मं लाजो नै करथोन,
आपनो-पराया कुछ नै बुझै, जे उ चाहै वहा चलै छै,
कहिने ऐसन खेल खेलै छै, पकड़ी-पकड़ी जेल भरै छै?

जे छीकै धरती के भार, होकरऽ तीलक तीस हजार,
चोर उचक्का बनी बराती, खान-पान मं करथौन मार,
बढका केॅ देखा देखी मेॅ, बेमतलब के बहू जलै छै
कहिने ऐसन खेल खेल खेलै छै, पकड़ी-पकड़ी जेल भरै छै?