भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सरौता कहाँ भूलि आये प्यारे नन्दोइय़ा / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सरौता कहाँ भूलि आये प्यारे नन्दोइय़ा
सास खाए बर्फी ननद खाए प़ेड़ा
मैं बेचारी रबड़ी खाऊन
दोना चाटे सैय्याँ -----सरोता
सास को लाये एटलस ननद को मखमल
मैं बेचारी रेशम पहनूं
टाट लपेटे सैय्याँ ------सरोता
सास म्हारी रिक्शा चाले नन्द चढ़े तांगा
मई बेचारी मोटर चालूँ
पैदल चाले सैय्याँ -----सरोता
सासू म्हारी खटिया सोवें ननन्द बिछोना
मैं बेचारी पलन्गा सौउं
भुइयां सोवें सैय्यां ---सरोता