भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सर्दियों में चाँद / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्दी में क्यों ठिठुर रहे हो
नभ के चाँद छबीले,
बीमार कहीं मत हो जाना-
नन्हे पथिक हठीले।

चुपके-से मेरे कमरे में
आ जाओ तुम भाई,
हाथ तापने को हीटर है
ओढ़ो गरम रजाई।

या मुझसे कंबल ले जाओ
पहनो स्वेटर प्यारा,
इससे रूप निखर आएगा
सचमुच खूब तुम्हारा!