भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सलाह / क्लो दुरी बेज़्ज़ोला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती को घूमने दो
हवा के गुलाब के साथ
बादलों को आलिंगन करने दो
सूरज की उजास का
हिमनदियों को
अपनी त्यौरियों पर बल डालने दो

जब तक पहाड़ी बकरियाँ
तुम्हारे हाथ से चारा खाएँ
फ़ौज से
जवाब-तलब न करो
यदि वह तुम्हारी आँखें उड़ा दें
या तुम्हारी जाँघों के बीच
बन्दूकें अड़ा दें

उनके बन्दूक-बादलों को
धर्मग्रंथ जैसा पढ़ो
दीवाल पर लिखे गए
आसमानों पर बने चित्र जैसा
कबूतर के पंख की
फटकार जैसा

अनुवाद : विष्णु खरे