भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सलोने बन्धन / दीप्ति गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीप गुनगुनाए तो, दीवाली जगमगाई,
रंग गुनगुनाए तो, ली होली ने अँगड़ाई,
भौरे गुनगुनाए तो, कलियाँ खिलखिलाई,
बादल गुनगुनाए तो, बरखा उमड़ आई,
तारे गुनगुनाए तो, निशा उतर आई,
खेत गुनगुनाए तो, सरसों फूल आई,
कान्हा गुनगुनाए तो, राधा दौड़ी आई,
दर्द गुनगुनाए तो, कविता लहर आई!