भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ससुर घर नीका लागै हो / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ससुर घर नीका लागै हो
अरे नीका लागै महराज हो
ससुर घर
नीका लागै हो कि
मोरे मइके के कलश देखायं हो
ससुर घर

जनकपुर नीका लागै हो
अरे नीका लागइ महराज हो
जनकपुर
जनकपुर नीका लागै हो
जहां सीता सहित भगवान हो
जनकपुर