भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सहयात्री / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी दिशा उधर

मेरी दिशा इधर

इसी लिए तुम सोचते हो हम

दो अलग दिशाओं के सहयात्री हैं,

पर मेरा विश्वास है कि हम—

दो अलग दिशाओं की ओर

चलते हुए भी सहयात्री हैं

क्योंकि हम शब्दबद्ध है.


….शब्द जो,निरर्थ से

अर्थ तक की यात्रा में

दिशा का बोध देता है

दिशा को बदल सकता है

अब तो केवल देखना है

किसका शब्द

किसकी दिशा बदलता है

ओ मेरे सहयात्री

शब्दबद्ध !