भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

स़ाफगोई की अदा इक हद तलक / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स़ाफगोई की अदा इक हद तलक
ये अदाकारी निभा इक हद तलक

सब के सब हैं बेख़बर ख़ुद से यहाँ
सबको है अपना पता इक हद तलक

प्यार की दुनिया वो दुनिया है जहाँ
फ़र्ज़ होता है अदा इक हद तलक

काम आती है बस अपनी रौशनी
साथ देता है दिया इक हद तलक

भूल मत `हस्ती' बुज़ुर्गों की दुआ
काम आती है दवा इक हद तलक