भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साँझ हो ली / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदी के जल में उतरकर
धूप बोली -
साँझ हो ली
 
घाट की परछाइयों से
केवटों ने नाव बाँधी
पेड़ चुपके सुन रहे हैं
खुशबुओं की बात आधी
 
देख नीचे छाँव टपकी
नीम की
पागल निमोली
 
दिन खजूरों के सिरों पर
चढ़ गये आकाश लेकर
रास्ते भी बस्तियों को
चल दिये आवाज़ देकर
 
और तारों की गली में
भोर तक
महकी ठिठोली