भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साँपिन डगर / श्याम सुन्दर घोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तरबन्ना सें होय केॅ आबै छै साँपिन डगर,
की कभी ओकरा पर तोहरोॅ ठहरलोॅ छौं नजर ?
ऊ साकार कविता छेकै अद्भुत छै ओकरोॅ छन्द,
एक-एक मोड़ छेकै एकरोॅ स्टेंजा आकि अलग-अलग बंद।
एक-एक झाड़-विरिछ कोमा-सेमिकाॅलन छेकै,
कहीं-कहीं पर छै टौप या सीधा फुलस्टाप।
कंकड़ छै, बालू छै, छै कमसिन धूल,
अगल-बगल फूल-पात कहीं-कहीं फूल।