भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सांची तो आ है / जितेन्द्र सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बगत
मुट्ठी में पक्योड़ी रेत री तर्यां
तिसळज्यै
अर म्हूं हर गेड़ै
करल्यूं खुद सूं नवो वायदो

जिनगाणी केई बार तस्सली
अर कई बार गलतफहमी सूं
राजी होज्यै

सांची तो आ है
म्हैं पकड़्यो बगत नैं
कदैई कंवळै अर कदैई सख्त हाथां सूं

पण ओ मिल्यो हमेस ई
गरीब री झूंपड़ी
मजदूर रै पसीनै
का फुटपाथ माथै
फकीरी मांय गुणगुणावतै मिनखां रै मन

म्हूं डूबणों चाऊं
इणरै दरसण मांय।