भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सांझ पहरवा / शार्दूल कुशवंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू नाहीं समझल~, प्यार के हमरा...
समईया गुजर गईल, मिलल~न हमरा।
न जाने का का, देखले रही सपना
तनिके में तोहके, समझ लेलीं रहीं अपना
रे कठकरेजऊ...जियते मार देल~हमरा।

सांझ पहरवा, यमुना कछार के किनरवा।
रहिया निहारत रहलीं, भोर-भिनुसरवा।
तबो न अईल~मोर~, दिल के धड़कनवा।
तड़पेके छोड़ दिहल~, जलत~अंगनवा।
रे निरदयऊ...जियते मार देल~हमरा।

सूरज के लाली नियन, मोर होठवा के लाली रह~।
आँख के पुतरिया के, बरत ज्योति रह~।
कईसे भुलाईं तोहके, मोर जिनगी के मोती रह~।
नदी के धार रह~, उल्लास के सोती रह~।
रे निरमोहिया...जियते मार देहल~हमरा के।