भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सांवरा...! / हरिमोहन सारस्वत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठाकुरद्वारै
सज्जायोडा है छप्पनभोग
भांत-भांत री थाळ्यां में
न्हाया-धोया
पीताम्बर दुसालो ओढ्यां
मुळकै है ठाकुरजी भगवान..!
बठैई पगोथियां स्यूं कीं अळघी
अधनागी सी मैला घाबा में
सूकी हांचळां चूंटतै
नागै टाबरियै नै
गोदी मांय टंगायां
उभी है
भूखी तिस्सी भूख
कांई ठा कद स्यूं..!
ऐ सैनाण तो नीं हा
म्हारै गिरधर नागर रा
कठैई
राणोंजी तो नीं आ बिराज्या है
ठाकुरद्वारै..?