भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सात रंग / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सात रंगों की गलबहियाँ
आकाश का श्रृंगार कर रही हैं ।

एक गुरुत्त्वाकर्षनीय निराकार -
आँखों में भर रहा हूँ, मुँह फिराने से कहीं खो न जाए ।

रों रहा है मन, एक दाग याद आता है
कि दाग पर दाग उग आता है ।

इन्द्रधनुष बनता है लुप्त होता है
एक कण धरकर नहीं रख पाता ।

जिसके अन्तर मे पैठ गया है दाग
वहीं बाँधता है जीवन को - जादू से ।

वहीँ खोजता है - पथ, सारी बाधाएँ ।
तुच्छ समझ, सपनों की खेता है नाव ।

हमारा विश्वास तैयार होता है इन सात रसायनों से
जो पार करता है सुदीर्घ जीवन ।