भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सामने से कुछ सवालों के उजाले पड़ गए / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सामने से कुछ सवालों के उजाले पड़ गए ।
बोलने वालों के चेहरे जैसे काले पड़ गए ।

वो तो टुल्लू[1] की मदद से अपनी छत धोते रहे,
और हमारी प्यास को पानी के लाले पड़ गए ।

जाने क्या जादू किया उस मज़हबी तक़रीर ने,
सुनने वाले लोगों के ज़हनों पे ताले पड़ गए ।

भूख से मतलब नहीं, उनको मगर ये फ़िक़्र है,
कब कहां किस पेट में कितने निवाले पड़ गए ।

जब हमारे क़हक़हों की गूँज सुनते होंगे ग़म,
सोचते होंगे कि हम भी किसके पाले पड़ गए ।

रहनुमाई की नुमाइश भी न कर पाए ‘नदीम’,
दस क़दम पैदल चले, पैरों में छाले पड़ गए ।

शब्दार्थ
  1. टूल्लू पम्प