भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सामेआ लज़्ज़त-ए-बयान-ज़दा / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सामेआ लज़्ज़त-ए-बयान-ज़दा
ज़ेहन ओ दिल सेहर-ए-दास्तान-ज़दा

फ़िक्र ओ तहक़ीक़ रेहन-ए-मोहर-ओ-सनद
तालिब-ए-इल्म इमतिहान-ज़दा

ज़ात की फ़िक्र है क़यास-आलूद
ज़िन्दगी का यक़ीं गुमान-ज़दा

रात पहचान दे गई सब को
सुब्ह चेहरे मिले निशान-ज़दा

ताक में है न कि तआक़ुब में
तू शिकारी है पर मचान-ज़दा

उन की फ़िक्र-ए-रसा फ़लक-पैमा
अपनी सोचें हैं आसमान-ज़दा

ख़ुद से रिश्ते नहीं रहे लेकिन
लोग अब भी हैं ख़ानदान-ज़दा

रात है लोग घर में बैठे हैं
दफ़्तर-आलूदा ओ दुकान-ज़दा