भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साम्हूं ओळ / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादळ दिखता
ताणतो छतर
बरसता कदास।

ताण्यां छतर
हांसै जग
बिना बादळ
रळी पूरण
दीठ में आ
नाचै मन
छम्मर-छम्मर
मोर कथीजूं
साम्हूं ओळ।