भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सारे रंगों वाली लड़की-5 / भरत तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारे रंगों वाली लड़की
कहाँ हो?

तुम्हें याद है
कब मिले हम
कि हम अलग नहीं हो सकते
तुम्हें याद है

मौसम गर्मी, उमस का
सुहाना लगता है सिर्फ़
सारे रंगों वाली लड़की