भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सालीणौ इम्तहान : अेक / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अेकर फेरूँ
सालीणौ इम्तहान जैड़ौ
दुकाळ रौ उकळास
चमगूंगा री भेळप
चैफेर उडीक
फगत राज री।

राज री धजा फरुकै
राज लोभी कागदां रौ
जको आवै राम बण नै
केई भेस मांय
भंभूळा उडावतौ
इम्तहान लेवण नैं
पास-फैल करणै।

खाटळी माथै पड़्या
कड़तू टूट्योड़ा
ढांचला
मुसाणां नै उडीकता
हुयज्या पास
अर रै‘ज्या केई
सांतरै डील रा
जोध-जवान
जका नीं राखै राजी
राज रै राम नैं।
वां ले लिया हाथां
रगत-तिस्या फरसा
निसरज्या समूळौ राम
कद ! कुण जांणै!