भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावण-एक / शिवदान सिंह जोलावास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

च्यारूं कानी हरियाळी री ओढणी
ओढ्यां आवै सावण।
 
बूंद-बूंद बिरखा
बिरखा वाळा बादळ
बादळ जितरा ऊंचा मगरा
मगरां रो जंगळ
जंगळ साथै
तळाव, नदी, नाळा अर झील।
 
झील रै वणी कनारै
ऊगतो सूरज
सूरज साथै सुपनो
इयां आवै सावण।