भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावण-दो / शिवदान सिंह जोलावास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घटाटोप अंधारो
चिलकती बिजळी यूं तड़ै
जियां फोटू खींचतां मांडै
धरती रो चितराम
इणरै साथै झमाझम पाणी
इयां आवै सावण।