भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सावन / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सावन बन थामो मुझको
मैं
बरसूँ चारो ओर
मेघ बनो
लो आगोश,
रोऊँ मैं
घनघोर

सपनों की
हरियाली बन
खेतों में
लहराऊँ
पवन के झोंकों संग
उस छोर पहुँच जाऊँ

बरसूँ
निर्जन वन में
पंछी गाएँ।
ठंडी धूप में
देखूँ उनको
पंख फैलाये
लौटूँ
फिर अपने घर-आंगन ।

ठहरो :
चलो, ले चलो-
रेत समन्दर
निर्जल-निर्मिति रेत–लहर

फिर तो मैं मिट जाऊंगी
तुमसे न मिल पाऊंगी
अनस्तित्व के सूने जग में
अस्तित्व एक बनाऊंगी ।