भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सासरे के चा में छोरी बालदी बी कोन्या ए / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सासरे के चा में छोरी बालदी बी कोन्या ए
चाची ताई घालण आई छोरी रोंवदी बी कोन्या ए
बड़ी जिठाणी सोवण खदां दी चढ़ चौबारे सोई ए
नीचे से मेरी सासड़ बोली सुण ले बहुअड़ मेरी ए
मेरा बेटा राज कंवर सै घौरी मत ना सोइए ए
ऊपर से मैं तले उतर ली आके चाक्की झो दई ए
भारी से मन्नै हलकी करली चून कुछ मोटा आया ए
भीतर से मेरी सासड़ बोली सुण ले बहुअड़ मेरी ए
मेरा बेटा राज कंवर सै मोटा मत ना पीसै ए
चाकी छोड़ रसोइयां आई आ के चूल्हा बाल्या ए
आलू का मन्नै साग बणाया मोटी रोटी पोई ए
भीतर से मेरी सासड़ बोली सुण ले बहुअड़ मेरी ए
मेरा बेटा राज कंवर सै मोटी मत ना पोइयो ए
सासरे के चा में छोरी बोलदी बी कोन्या ए