भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सासरो छोड़यो देवी दूर, पीयर मेढ़ो रोपियो जी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सासरो छोड़यो देवी दूर, पीयर मेढ़ो रोपियो जी।
तांवा खण्या रे तलाव, अमरित अम्बो मवरियो जी।।
रनुबाई हुआ पणिहार, वहा रड़ऽ सासर-वासेण जी।
की थारो पीयर दूर, की थारी सासू सौतेली जी।
नई म्हारो पीयर दूर, नई म्हारी सासू सौतेली जी।
हम पर ”सऊक को साल“, तेगुण रड़ऽ सासरवासेण जी।।
हेडूँ थारो ”सऊक को साल“,
बांझ घर पालणो झुलाड़सां जी।