भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सास मैं तो पाणी नै गई थी री / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सास मैं तो पाणी नै गई थी री
बेटा तो तेरा नंगा खड्या था री
सास मेरी लीली बेच दे री
छेल नै साफा मांगा दे री
सास मैं तो बागां मैं गई थी री
बेटा तो तेरा नंगा खड्या था री
सास मेरे डांडे बेच दे री
छेल ने मुरकी गढ़ा दे री
सास मैं तो कुआं पै गई थी री
बेटा तो तेरा नंगा खड्या था री
सास मेरा दामण बेच दे री
छेल नै कुरता सिमा दे री
सास मैं तो गलिआं मैं गई थी री
बेटा तो तेरा नंगा खड्या था री