भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिंधु स्मृति-2 (समुद्र की साँझ) / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंगार लाल
जलता सूरज
समुद्र में उतरा
साँझ सुनहरी पीत तपती रही
मूक बधिर बनी
थिरकती रही

प्रिय की दूर प्रीत
सुनहरी सब
अपनी बाँहों में भर ली है
सूरज डूबे न डूबे।