भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिंधू / कला प्रकाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजु स्कूल मां आईंअ,
पंहिंजूं नंढिड़ियूं ॿांहूं
मुंहिंजे गले में विझी चयुइ:
‘अमी, छो भला मूं जहिड़ो नालो
स्कूल में ॿियो कंहिंजो कोन्हे?
स्कूल में ॿ कमलाऊं ॿ गोपियूं,
टे निर्मलाऊं
पर ‘सिंधू’ त ॿी काबि कान्हे...
अमी, नाला केरु ठाहीन्दो आहे?’
मूं अखियुनि में विहारे चयोमांइ:
‘तुंहिंजो नालो तुंहिंजे दादा रखियो आहे।
दादहिं तोखे ॾाढो प्यारु कन्दो आहे न?
सिंधु बि खेसि ॾाढी प्यारी हुई।
इन करे तुंहिंजो नालो धरियाऊं: सिंधू।’
तंहिं ते गंभीर थी पुछीं
‘सिंधु कहिड़ी?’
मूं ॿिन्ही हथनि में तुंहिंजो
चंड जहिड़ो चेहरो झले चयो
‘अॻे असीं सिंधु में रहन्दा हुआसीं।’
तंहिं ते पुछियइ:

‘उते घर में पींघ हुई?’
मूं मुरकी चयोमांइ: ‘हा पींघ हुई।’
तो वरी पंहिंजो चेहरो
मुंहिंजे हथनि मां छॾाए ॻिल ते
हथु रखी पुछियो: ‘ऐं उते ॿियो छा हो अमी?’
मूं बि तो जियां गंभीर थी चयो:
‘घर जे सामुहूं वॾो वॾो बागु़ हो,
उते साओ गाहु, गुल, पींघूं, गिसकणि सभु हुआ।’
‘उते भला स्कूल हो?’
‘हा स्कुल बि हो, घर जे तमाम भरिसां;
स्कूल में बि पींघूं हुयूं।’
‘उते टोल वारो ईन्दो हो?’ तो पुछियो
मूं हल्की थफड़ हणी चयोमांइ:
‘हा हा, जाम टोल वारा ईन्दा हुआ।
ॿारिड़नि खे प्यारु बि कन्दा हुआ।’
‘त सिंधु ॾाढी सुठी हुई?’
तुंहिंजो मासूमियत भरियो सुवालु।
‘हा ॾाढी सुठी हुई। इन करे त दादहिं
तुंहिंजो नालो रखियो आहे सिंधू।’
मूं तोखे पंहिंजीअ हंज में खणी विहारियो।
इहा ॻाल्हि वेही रही तुंहिंजे मन ते।
ॾिसां त मानी खाई,
रांदि रमन्दे, पाण सरतीअ मोहिनीअ

सां पेई तोतिलियूं ॻाल्हियूं करीं।
सिंधु जे घर, स्कूल
ऐं वॾे बाग़ जूं ॻाल्हियूं।
पछाड़ीअ जो चयुइ:
ख़बर अथेई, मां सिंधु जहिड़ी सुहिणी आहियां!
इन करे ई मुंहिंजे दादा
मंुहिंजो नालो रखियो आहे सिंधू।’
तुंहिंजी मासूमियत ॾिसी,
मुंहिंजो सिंधु जे सिक जो जज़बो पियो जाॻे।
तोॾे ॾिसी दिल में चयुमि:
‘सचु थी चवीं, असीं सिंधु
तव्हां में ई त समाए वेन्दासीं, मिठी।’

(ममता जूं लहरूं- 2, 2006)