भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिकंदर भी यहाँ बेहाल है / उषा उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काल की किसने मिटाई चाल है ,
खुद सिकंदर भी यहाँ बेहाल है ।

अपने आप सभी आयुध म्यान हो गए,
मौत का कैसा अनोखा प्यार है ।

ज़हर का प्याला लबालब भेज दे,
इस जगत का यह पुराना हाल है ।

पर हुआ मेवाड़ तो होगी मीरा,
इतना सोना तो मिला, तिल-भार है ।

इस जगत के तीर उनको क्या करें,
हाथ में जिनके अलख की ढाल है ।

संकरी दीवार सब ढह जाएगी ,
प्रेम नामक जागता जगपाल है ।

फूल सुखी डाल पर भी आएँगे ,
है वज़ह इस हाथ में करताल है ।


मूल गुजराती से अनुवाद : स्वयं कवयित्री द्वारा