भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिज जी उस में किथे तपिजी न वञो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिज जी उस में किथे तपिजी न वञो।
वहम जी छांव में को पलु भी विहो॥

शहर जो गोडु़ रॻुनि में थो डुके।
गोड़ जो शहरु थी वयो जिस्मु सॼो॥

रात जा खु़श्कु थधा चप फड़िकिया।
कोई भुणि-भुणि में थी क़त्ल वयो॥

सॾ असां जा ऐं ख़ामोशी तुंहिंजी।
हीउ फ़सानो भी किथे लिखिजे पयो॥

आ फ़सादनि जो अॾो शहर जो चींकु।
इन ते लीडर जो कोई नाउं रखो॥