भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सियाही ढल के पलकों पर भी आए / कबीर अजमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सियाही ढल के पलकों पर भी आए
कोई लम्हा धनक बन कर भी आए

गुलाबी सीढ़ियाँ से चाँद उतरे
खिराम-ए-नाज़ का मंजर भी आए

लहू रिश्तों का अब जमने लगा है
कोई सैलाब मेरे घर भी आए

मैं अपनी फिक्र का कोह-ए-निदा हूँ
कोई हातिम मेरे अंदर भी आए

मैं अपने आप का कातिल हूँ ‘अजमल’
मेरा आसेब अब बाहर भी आए