भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिर ताने सीना ताने / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिर, ताने, सीना ताने
हम चले वीर मस्ताने

हम चले हवा की गति से
हम चले एक ही मति से

गाते साहस के गाने
हम चले वीर मस्ताने

हम चले, सुबह जब आई
दुपहर ने भूमि तपाई

जब साँझ लगी मुसकाने
हम चले वीर मस्ताने

फिर रात भला क्यों रोके
तारे चमके खुश होके

पथ दिखलाया चंदा ने
हम चले वीर मस्ताने

बल है, साहस है भारी
देखेंगे, धरती सारी

मन में हैं ऐसा ठाने
हम चले वीर मस्ताने

चिड़ियाँ गाना गाती हैं
किरणें बिछ-बिछ जाती हैं

पथ बनते हैं पहचाने
हम चले वीर मस्ताने।