भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिलसिला-दर-सिलसिला जुज़्ब-ए-अदा होना ही था / ज़ुल्फ़िकार नक़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिलसिला-दर-सिलसिला जुज़्ब-ए-अदा होना ही था
आख़िरश तेरी नज़र का मुद्दआ होना ही था

कू-ब-कू सहरा-ब-सहरा हम-सफ़र था इजि़्तराब
इक नया महशर नया इक हादसा होना ही था

डस रहा था तेरी यादों का मुसलसल अज़दहा
लहज़ा लहज़ा फ़िक्र में इक सानेहा होना ही था

हाथ उट्ठे चश्म-ए-तर थी दिल भी था महव-ए-फ़ुग़ाँ
हाशिया-दर-हाशिया हर्फ़-ए-दुआ होना ही था

खींच ली थी इक लकीर-ए-ना-रसा ख़ुद दरमियाँ
फ़ासला-दर-फ़ासला-दर-फ़ासला होना ही था