भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीढि़यों का भँवर / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बात जो सब से जरूरी है,
सब बहस के बावजूद
छोड़ दी जाती अधूरी है!

आँख का चश्मा चढ़ा है नाक पर,
नाक छूती आ रही नीचे अधर,
कब्र में जीने, अगोचर
सीढि़यों का तेज, अंतर्मुख भँवर ;
और हर दो कब्र की
दो कदम की सिर्फ दूरी है!

बैठकर, मिलकर, कहीं पर खड़े होकर,
बात के जरिए उठा देना लहर,
बदल देना घड़ी भर में विश्वो को, फिर
खुद बदल जाना सभा से लौटकर  ;
पंक्तियॉं बँधती रहीं, अब भी वही
धँस रही पेटों में छूरी है!