भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीता जी वेदना / सुन्दरी उत्तमचन्दाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लीको लंघे
कंहिं खे प्रेम जी बिक्षा
त ॾिनी कीन हुअमि-
हाओ अटे लप जे मथां
जल जो टिभे रखी ॾिनुमि-
पर इहा त दया आहे
सृष्टीअ जे सृजना जी रक्षा आहे,
पोइ बि
मूं खां मुखु फेरे छॾियुइ?
पुरुष जो आहीं-
तूं छो समुझीं सीता जी वेदना!
मुखु मूं ॾे हुजेई,
भलि कोहनि जी दूरीअ ते हुजीं-
चिठीअ टुकरु बि न लिखीं-
पोइ बि मन में हून्दो आहे संतोषु।
पर अॼु साॻीअ खट ते,
ॿांहं बि नवराईं,
त असंतोष कीअं न थिए?
पाउ पलक अखि लॻाए-
उथियो उथियो पेई विहां-
मगर पुरुष जो आहीं-
तूं छो समुझीं सीता जी वेदना??

युग गुज़िरी विया
सीता ऐं राम जे समे खे।
दया ऐं प्रेम जो फ़र्क-
अॼु ॿारु बि थो समुझे-
पर तूं... ?
उन ॾींहुं दया भाव जे पुर्ती अ लाइ
सीता लीके खां ॿाहिर आई-
धोॿीअ न समुझी ॻाल्हि-
मुंझी पियो रामु राजा।
लीके खां ॿाहिर आई आहे।
तॾहिं नएं युग जा पुरुष!
उथी नईं रस्म जोड़ि।
भाव जे इज़हार लाइ-
ॾोहु न ॾे सीता खे।
ज़मानो अॼु बि कीन भुलियो आहे
पुरुष जे अहंकार जो कलंकु-
गर्भिणी सीता खे झरझंग
जा ॾझा ॾियण जो!
माफ़ न कन्दइ धरतीअ जी धीअ...
मगर पुरुष जो आहीं....
तूं छो समुझीं सीता जी वेदना...