भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीधा बहाव है कभी उल्टा बहाव है / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सीधा बहाव है कभी उल्टा बहाव है ।
ऐसी उथल-पुथल से मुसीबत में नाव है ।

गंगा लहू-लहू है तो जाहिर-सी बात है,
दिल में कहीं जाकर हिमालय के घाव है ।

कोई भी रूप-रंग हो, कोई भी हो महक,
मुझको हर एक फूल से बेहद लगाव है ।

सोने का भाव क्या करें, हम पूछ कर 'नदीम',
मिट्टी को देखते हैं कि सोने के भाव है ।