भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीमा हो तो नीलगगन की / निदा नवाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ
आज इस विशाल धरती पर
शान्ति की एक चादर बिछाएं
और यह प्रतिष्ठित करें
कि सारी मानवता की सफलता
केवल शान्ति में है।
आओ कि
प्रकृति के इस मोहक चित्र से
आक्रोश की परत उठाएं
आओं
मारा-मरी अब बन्द करें हम
संकीर्णता से न डरें हम
भेद-भाव की ज़िद हम छोड़ें
मानवता से मुंह ना मोड़ें
और धरती से
विकट विनाश की छाया हटाएं
शान्ति के ही गीत गाएं
और आज
इस धरती पर खिंची गई
सारी आबड-खाबड़ सीमाएं
मिटाएं
और फिर
सीमा हो तो नीलगगन की
भूख प्यास मिट जाए जग की
जीने को हर प्राण अकेला
हो फिर आतुर.