भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीरत के बतिया / जयशंकर प्रसाद द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरत ना हमरी निहारी ए राजा॥
सीरत के बतिया बिचारीं ए राजा॥

ढलती उमिरिया में चिचुकल चेहरवा
अचके भुलाइल गावल कहरवा
केतना ई देहिया निखारी ए राजा॥ सीरत के बतिया...

कसक न मनवा ठसक नाही चलिया
कनवाँ में करकत सरकेले बलिया
बीतल जवन मत उचारीं ए राजा॥ सीरत के बतिया...

गरदिश में नीकसल बाली उमिरिया
भइल मोहाल मोर तिरछी नजरिया
हियवा के टीस मत उभारीं ए राजा॥ सीरत के बतिया...

कहवाँ बचल अब पतरी कमरिया
घेरले जाता रोजे नवकी बीमरिया
पहिलकी पिरितिया सभारीं ए राजा॥ सीरत के बतिया...