भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुधुर-मधुर विचित्र है... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  सुधुर-मधुर विचित्र है...

सुधर-मधुर विचित्र है जलयन्त्र मन्दिर और गृहो में

चन्द्रकान्ता मणि लटकती, झूलती वातायनों में

सरस चन्दन लेप कर तन ग्लानि हरने को निरत मन,

व्यस्त है सब, लो प्रिये ! अब हँस उठा है नील निस्वन,

तिमिर हर कर, अमृत निर्झर शान्त शशधर मुसकराया,

प्रिये ! आया ग्रीष्म खरतर !